educationEmployeeMp BoardMp news

💥Big Breaking 💥 विद्यार्थियों के लिए जरूरी खबर : अब एक साथ कर सकेंगे 2 डिग्री, UGC ने दी हरी झंडी, लंबे समय से थी मांग, ऐसी व्यवस्था लागू करने वाला भारत होगा पहला देश , यहां पढ़े पूरी खबर

विद्यार्थियों की एक ही समय में एक साथ 2 डिग्री डिप्लोमा या पाठ्यक्रम पूर्ण करने की लंबे समय से चली आ रही मांग को अब यूजीसी यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन ने हरी झंडी दे दी है। आपको बता दें कि विश्व में भारत ही अब एक ऐसा देश होगा जहां पर एक साथ 2 डिग्री या डिप्लोमा या कोर्स एक ही यूनिवर्सिटी या अलग-अलग यूनिवर्सिटी से किए जा सकेंगे। मध्य प्रदेश सहित विभिन्न राज्यों के विद्यार्थियों कि लंबे समय से हम मांग रही हैं कि विद्यार्थी एक साथ 2 डिग्री डिप्लोमा कोर्स को पूर्ण कर सकें एवं उनकी वैधानिक मान्यता हो।

💥big breaking 💥 विद्यार्थियों के लिए जरूरी खबर : अब एक साथ कर सकेंगे 2 डिग्री, ugc ने दी हरी झंडी, लंबे समय से थी मांग, ऐसी व्यवस्था लागू करने वाला भारत होगा पहला देश , यहां पढ़े पूरी खबर
Ugc 2 Degree Latest Update

ऐसा फैसला लेने वाला भारत होगा विश्व में पहला देश

भारत विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यूजीसी के अध्यक्ष द्वारा यह बहुत बड़ा ऐतिहासिक फैसला लिया गया है। आपको बता दें कि यदि यह फैसला पूर्णरूपेण लागू होता है, तो भारत विश्व में ऐसा पहला देश होगा जहां पर विद्यार्थियों को एक साथ पूर्णकालिक 2 डिग्री या डिप्लोमा कोर्स करने तथा उसकी वैधानिक मान्यता की अनुमति होगी।

दुनिया के किसी और देश में इस तरह की सुविधा होने के सवाल पर कुमार ने कहा, ऐसा हो सकता है कि कुछ देश थोड़ी बहुत सुविधा देते हों, लेकिन अगर ऐसा नहीं है तो भारत उच्च शिक्षा के क्षेत्र में सुधार के तौर पर ऐसा विकल्प देने वाला पहला देश हो सकता है। कुमार ने कहा, इस सुविधा के बाद अगर कोई बच्चा सक्षम है तो वह कॉमर्स और गणित की दो डिग्रियां एक साथ हासिल कर सकता है।

2 डिग्री एक ही सत्र में करने के कारण हजारों युवा नौकरी में हुवे अपात्र, नियम पहले लागू होता तो लाखों युवा नहीं होते बेरोजगार

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में शिक्षक भर्ती को लेकर चल रहे लंबे घमासान में कई युवा इस फैसले के अधर में होने के कारण अपना रोजगार खो चुके हैं। सीधी बात की जाए तो मध्य प्रदेश के विभिन्न विभागों विशेषकर शिक्षा विभाग में हुई शिक्षक नियुक्ति में ऐसे अभ्यर्थी जिन्होंने एक ही शैक्षणिक सत्र में 2 डिग्री या 1 डिग्री 1 डिप्लोमा किया है अथवा एक साथ दो पाठ्यक्रम में प्रवेश लिया है तो उन्हें अपात्र घोषित किया गया है जिसके कारण पात्र होने के बावजूद भी वे बेरोजगार हो गए।

हालांकि यूजीसी द्वारा एक ही सत्र में 2 पूर्णकालिक डिप्लोमा या डिग्री करने में एक ही प्रकार का पाठ्यक्रम स्तर यानी कि या तो 2 डिग्री एक साथ अथवा दो डिप्लोमा एक साथ या दोनों कोर्स स्नातक या स्नातकोत्तर या डिप्लोमा डिग्री के होना चाहिए।

12वीं की पढ़ाई पूर्ण कर चुके विद्यार्थियों में जहां एक और यूजीसी द्वारा लिए गए इस निर्णय को लेकर काफी खुशी का माहौल है । वहीं ऐसे युवा जिन्होंने की 2 डिग्री या दो डिप्लोमा या दो पाठ्यक्रम में एक साथ प्रवेश लिया था लेकिन नियम नहीं होने के कारण वे प्रतियोगी परीक्षाओं में पास होने के बावजूद भी अपात्र घोषित किए गए हैं, उनमें निराशा है।

युवाओं का कहना है कि यदि यूजीसी द्वारा इस प्रकार का फैसला पहले लिया जा चुका होता तो आज हम जैसे लाखों युवाओं की नौकरी लग जाती। देश में ऐसे लाखों युवा हैं जिन्होंने समय अभाव के कारण एक ही समय में एक ही विश्वविद्यालय अलग-अलग विश्वविद्यालय से 2 डिग्री या 2 डिप्लोमा एक साथ किए हैं। लेकिन अभी तक वह दोनों ही डिग्री या दोनों ही डिप्लोमा किसी भी नौकरी में एक साथ लगाने के लिए पात्र नहीं थे।

Join whatsapp for latest update

यूजीसी द्वारा लिए गए इस ऐतिहासिक निर्णय के कारण अब देश के लाखों युवाओं में खुशी की लहर है एवं एक उम्मीद की किरण भी है कि अब वह एक साथ 2 डिग्री या दो डिप्लोमा कोर्स कर पाएंगे तथा शासकीय सेवा में आने में उन्हें किसी भी प्रकार की दिक्कतों का सामना ना करना पड़ेगा।

ऐसे कर सकेंगे एक साथ 2 डिग्री या दो डिप्लोमा, इन नियमों का रखना होगा ध्यान

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) की हरी झंडी के बाद विद्यार्थी इसी शैक्षणिक सत्र (2022-23) से एक साथ दो पूर्णकालिक पाठ्यक्रमों में दाखिला ले सकेंगे, लेकिन इसके लिए दोनों कोर्स एक ही स्तर के होने चाहिए। उदाहरण के लिए वे केवल दो स्नातक या दो स्नातकोत्तर, या फिर दो डिप्लोमा डिग्री एक साथ कर सकेंगे।

Join telegram

यूजीसी UGC के अध्यक्ष जगदीश कुमार ने मंगलवार को प्रेस कान्फ्रेंस में कहा, विद्यार्थी चाहें तो एक ही विश्वविद्यालय से या फिर अलग-अलग विश्वविद्यालयों से एक समय पर दो कोर्स कर सकेंगे। उन्हें एक साथ ऑफलाइन व ऑनलाइन मोड में दो डिग्री कोर्स करने का मौका दिया जाएगा। आयोग लंबे समय से इसकी तैयारी कर रहा था। 2012 में एक समिति भी गठित की गई थी, जिसने सभी पहलुओं की जांच के बाद रिपोर्ट सौंपी। इस पर काफी विचार विमर्श भी हुआ लेकिन फिर मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया।

हालांकि 2020 में आयोग को यह कदम उठाने की स्वीकृति मिली जिसके बाद यह निर्णय लिया गया।

अभी सिर्फ गैर तकनीकी पाठ्यक्रम में ही लागू

कुमार ने कहा, फिलहाल के लिए यह सुविधा सिर्फ यूजीसी द्वारा प्रमाणित गैर तकनीकी पाठ्यक्रमों के लिए ही लागू होगी। वे विभिन्न धाराओं के विषयों का संयोजन हो सकता है। जैसे मानवशास्त्र विज्ञान और वाणिज्य दाखिला विद्यार्थी की योग्यता और पाठ्यक्रमों की उपलब्धता के आधार पर होगा।

तीन तरह से हो सकेंगी एक साथ दो डिग्री

यूजीसी की ओर से तैयार मसौदा दिशानिर्देश के मुताबिक विद्यार्थी तीन तरह से दो डिग्रियां एक साथ हासिल कर सकेंगे।

पहला, वे दोनों शैक्षणिक कार्यक्रमों को फिजिकल मोड यानी कक्षा में जाकर पढ़ सकते हैं। बशर्ते एक कोर्स की कक्षा का समय दूसरे के साथ टकराता न हो।

दूसरा, वे एक पाठ्यक्रम में कक्षा में जाकर और दूसरे में ऑनलाइन मोड पर या दूरस्थ मोड से पढ़ सकते हैं।

तीसरा और अंतिम तरीका है कि वे दोनों पाठ्यक्रम ऑनलाइन या दूरस्थ माध्यम से एक साथ पढ़ सकते हैं।

विश्वविद्यालयों को होगी सुविधा देने की छूट

कुमार ने कहा, यह किसी विश्वविद्यालय के लिए अनिवार्य नहीं होगा कि वह दो पाठ्यक्रमों में दाखिला दे। इन दिशानिर्देशों को अपनाना किसी भी विश्वविद्यालय या परिषद के लिए अनिवार्य नहीं होगा। लेकिन आयोग उम्मीद करता है कि अधिक से अधिक संस्थान विद्यार्थियों को एक साथ दो डिग्री कोर्स करने की अनुमति देंगे। दाखिले और परीक्षा की पात्रता व प्रक्रिया तय करने की छूट भी संबंधित संस्थानों को दी जाएगी। विद्यार्थियों को संस्थानों के नियमों को मानना होगा।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please Close Adblocker to show content