educationEducational News

💥Adhyapak Big Breaking 💥 मध्यप्रदेश अध्यापक संवर्ग को नहीं माना गया शासकीय सेवक, दिवंगत अध्यापक संवर्ग के अनुकंपा नियुक्ति आदेश किए निरस्त, अप्रैल में अनुकंपा नियुक्ति मई में निरस्त

Madhya Pradesh school Shiksha vibhag, anukanpa niyukti,अध्यापक संवर्ग अनुकंपा नियुक्ति, जिला शिक्षा अधिकारी जबलपुर, मध्य प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़,शिक्षा जगत की खबरें ,education, educational news, Adhyapak sanvarg shikshak,

मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है। बता दे मध्य प्रदेश में शिक्षा विभाग अध्यापक संवर्ग में नियुक्त दिवंगत शिक्षको को जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा स्थानीय निकाय कर्मचारी मानते हुवे अनुकंपा नियुक्ति के आदेश को निरस्त कर दिया गया है।

अध्यापक संवर्ग को नहीं माना शासकीय लोकसेवक, दिवंगत के परिजनों के अनुकंपा नियुक्ति आदेश निरस्त

मामला जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय जबलपुर का है जहां अध्यापक संवर्ग की दिवंगत लोकसेवक को शासकीय लोक सेवक नहीं मानते हुए परिजनों को दी गई अनुकंपा नियुक्ति को तत्काल प्रभाव से निरस्त करने के आदेश जारी किए गए हैं।

मध्य प्रदेश सरकार द्वारा अध्यापक संवर्ग के कर्मचारी को शासकीय लोक सेवक नहीं मानते हुए दिवंगत अध्यापक संवर्ग के परिजनों को अनुकंपा नियुक्ति देने के बाद आदेश निरस्त करना चर्चा का विषय बन चुका है। जिसको लेकर शिक्षक जगत में मध्य प्रदेश सरकार के खिलाफ नाराजगी व्याप्त है।

स्थानीय निकाय के अध्यापक संवर्ग को पूर्व से ही शासकीय लोक सेवक के रूप में माना गया है एवं इन्हें भी अनुकंपा नियुक्ति की पात्रता है। लेकिन जिला शिक्षा अधिकारी जबलपुर के द्वारा मध्य प्रदेश सरकार के अनुकंपा नियुक्ति के संबंध में जारी नवीन दिशानिर्देशों के मुताबिक अनुकंपा नियुक्ति में संविदा शिक्षक वर्ग को प्राथमिक शिक्षक माध्यमिक शिक्षक एवं उच्च माध्यमिक शिक्षक से प्रतिस्थापित करने के बाद अब अनुकंपा नियुक्ति देने मैं वैधानिक चुनौतियों का हवाला देते हुए अनुकंपा नियुक्ति आदेश निरस्त किए गए हैं।

यहां जाने गुरुजी, शिक्षाकर्मी से लेकर शिक्षक बनने तक की कहानी

बता दें कि मध्यप्रदेश में वर्ष 1998 से शिक्षाकर्मी संवर्ग चला रहा है जिसके अंतर्गत स्कूलों में शिक्षा कर्मी के पदों पर नियुक्ति की जा रही थी इससे पूर्व गुरुजी के पदों पर नियुक्तियां की गई जिन्हें बाद में अप्रैल 2007 से अध्यापक संवर्ग में शामिल किया गया।

बाद में मध्य प्रदेश सरकार द्वारा वर्ष 2018 में शिक्षकों का शिक्षा विभाग में संविलियन करने के लिए नवीन शैक्षणिक संवर्ग बनाया गया । जिसमें शिक्षाकर्मी से अध्यापक संवर्ग में शामिल शिक्षकों को प्राथमिक शिक्षक माध्यमिक शिक्षक एवं उच्च माध्यमिक शिक्षक पद नाम दिया गया।

Join whatsapp for latest update

अध्यापक संवर्ग से नवीन शैक्षणिक संवर्ग में शामिल होने के लिए अध्यापकों से वचन पत्र दिया गया लेकिन कई अध्यापकों ने नवीन शैक्षणिक संवर्ग की शर्तों को स्वीकार नहीं करते हुए सहमति पत्र नहीं दिया जिसके बाद से ही ऐसे शिक्षक अध्यापक संवर्ग में ही हैं मध्यप्रदेश में अध्यापक संवर्ग के शिक्षकों की संख्या लगभग 10% है।

अध्यापक संवर्ग एवं शिक्षा कर्मी संवर्ग स्थानीय निकाय के कर्मचारी की श्रेणी में आते हैं जिन्हें बाद में वर्ष 2018 से नवीन शैक्षणिक संवर्ग की स्थापना करते हुए उस में संविलियन किया गया।

Join telegram

Madhya Pradesh सरकार के इस आदेश के तहत की गई अनुकंपा नियुक्ति निरस्त 👇

लोक शिक्षण संचालनालय मध्यप्रदेश भोपाल के परिपत्र कमांक स्था-4 / सी / अनु. नियु. (दि. निर्दे) /78/2021-23/559 भोपाल दिनांक 24.03.2023 जिसमें म0प्र0 राज्य स्कूल शिक्षा सेवा (शैक्षणिक संवर्ग) सेवा शर्ते एवं भर्ती नियम 2018 में किये संशोधन राजपत्र दिनांक 01 दिसंबर 2022 एवं म०प्र० शासन सामान्य प्रशासन विभाग मंत्रालय भोपाल के क्रमांक / सी-03-06/2021/1/तीन भोपाल दिनांक 01 फरवरी 2023 के द्वारा शासकीय सेवक की सेवाकाल में मृत्यु होने पर विभाग के पूर्व परिपत्र क्रमांक / सी-3-12/2013 /1/3 दिनाक 29 सितम्बर 2014 की कंडिका 5.1 में उल्लेखित ” संविदा शाला शिक्षक के स्थान पर प्राथमिक शिक्षक / प्रयोगशाला शिक्षक / प्राथमिक शिक्षक विज्ञान से प्रतिस्थापित किया जावे उल्लेख किया गया है, के आधार पर जारी किये गये थे ।

उक्त सभी परिपत्र नियमित शासकीय सेवकों की मृत्यु पर उनके आश्रितों को अनुकम्पा नियुक्ति देने के लिए है। स्व०भास्कर तिवारी जिनकी आश्रित पत्नि श्रीमति अंजना तिवारी एवं स्व०मनोज बबेले जिनकी आश्रित श्रीमति निशा बबेले हैं. दोनों अध्यापक संवर्ग में कार्यरत थे जो कि शासकीय सेवक न होकर स्थानीय निकाय में नियुक्त सेवक थे। इस प्रकार श्रीमति अंजनी / स्व०भास्कर तिवारी एवं श्रीमति निशा बबेले / स्व०मनोज बबेले प्राथमिक शिक्षक पद पर अनुकम्पा नियुक्ति हेतु पात्र नहीं है।

अतः कार्यालयीन त्रुटिवश जारी आदेश की क्रमांक / स्थापना चार/अनु०नियु०/2023/3067 एवं क्रमांक / स्थापना चार / अनु०नि० / 2023 / 3069 दिनांक 24 अप्रेल 2023 आदेशों में अंकित शर्त कमांक 21 के आधार पर तत्काल प्रभाव से निरस्त किया जाता है।

जिला शिक्षा अधिकारी जबलपुर द्वारा अनुकंपा नियुक्ति निरस्त आदेश 👇

Wp image7263556443470379513
💥Adhyapak Big Breaking 💥 मध्यप्रदेश अध्यापक संवर्ग को नहीं माना गया शासकीय सेवक, दिवंगत अध्यापक संवर्ग के अनुकंपा नियुक्ति आदेश किए निरस्त, अप्रैल में अनुकंपा नियुक्ति मई में निरस्त 21
Wp image5975915426578902265
💥Adhyapak Big Breaking 💥 मध्यप्रदेश अध्यापक संवर्ग को नहीं माना गया शासकीय सेवक, दिवंगत अध्यापक संवर्ग के अनुकंपा नियुक्ति आदेश किए निरस्त, अप्रैल में अनुकंपा नियुक्ति मई में निरस्त 22
🔥🔥 Join Our Group For All Information And Update, Also Follow me For Latest Information🔥🔥
🔥 Whatsapp Group Join Now Whatsapp WhatsApp Group

Whatsapp Whatsapp Community

Whatsapp WhatsApp Channel
🔥 Facebook Page Digital Education PortalClick to follow us
🔥 Facebook Page Sarkari Naukary Click to follow us
🔥 Facebook Group Digital Education PortalDigita educatino portal
Ms Teacher Choice Filling Date Extended 2023 : माध्यमिक शिक्षक भर्ती अब 18 जनवरी तक कर सकेंगे चॉइस फिलिंग 1
Telegram Channel Digital Education PortalTelegram
Telegram Group Digital Education PortalTelegram
Google NewsFollow us on google news - digital education portal
Follow us on TwitterTwitter

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please Close Ad Blocker

हमारी साइट पर विज्ञापन दिखाने की अनुमति दें लगता है कि आप विज्ञापन रोकने वाला सॉफ़्टवेयर इस्तेमाल कर रहे हैं. कृपया इसे बंद करें|