educationEducational News

DAVV ने जरी किया डीईटी का रिजल्ट: इस साल रहा 19.4 प्रतिशत, दिसंबर में हो सकती है दूसरे चरण की एग्जाम Digital Education Portal

1653645393

Phd में प्रवेश के लिए हुई DET (डॉक्टोरल एंट्रेंस टेस्ट) का रिजल्ट देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी ने गुरुवार देर शाम जारी कर दिया है। DET में इस साल सिर्फ 19.4 प्रतिशत कैंडिडेट ही एग्जाम पास कर पाए है। जबकि पिछले साल लगभग 25 प्रतिशत कैंडिडेट ने यह एग्जाम पास की थी। DET में सबसे अधिक मैनेजमेंट और कॉमर्स के स्टूडेंट पास हुए है।

यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने 19 अप्रैल को Phd के 44 विषयों में 1217 सीटों के लिए DET एग्जाम आयोजित करवाई थी। जिसके लिए 4590 उम्मीदवार शामिल हुए थे। 4590 उम्मीदवार में से सिर्फ 890 उम्मीदवार ही Phd के लिए चयनित हुए है। जिसमें मैनेजमेंट में सबसे ज्यादा 251, कॉमर्स में 89, ईकोनोमिक्स में 13, शिक्षा में 12, इंग्लिश में 32, हिन्दी में 43, पॉलिटिकल साइंस में 31, कंप्यूटर साइंस में 29, इतिहास में 61, सोश्योलॉजी में 38 और अन्य विषयों में 34 उम्मीदवार का चयन हुआ है।

Phd में इतनी सीटें है

मैनेजमेंट में 334, कॉमर्स में 234, बॉटनी में 39, केमिस्ट्री में 10, कंप्यूटर साइंस में 23, शिक्षा में 40, इकोनॉमिक्स में 29, हिंदी में 37, फिजिक्स में 50, जूलॉजी में 81, फार्मेसी में 11, इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंस्ट्रूमेंटेशन में 2, हिस्ट्री में 3, मिलिट्री साइंस में 2, स्टैटिस्टिक्स में 4, इलेक्ट्रॉनिक्स में 3 सीटें। Phd की सीटों की तुलना में उम्मीदवारों की संख्या काफी कम है। 1215 सीटों पर सिर्फ 890 स्टुडेंट ही है।

कोर्स वर्क के बाद JRF उम्मीदवार को सीटें

Join whatsapp for latest update

DET में 6270 उम्मीदवारों ने आवेदन किया था। जिसमें जूनियर रिसर्च फैलोशिप (JRF) वाले 300 आवेदक शामिल थे। इन्हें परीक्षा से छूट दी गई थी। इन्हें कोर्स वर्क के बाद सीट आवंटित की जाएगी। वहीं Phd की बची हुई 150 सीटों को लेकर यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने दिसंबर में डीईटी का दूसरा चरण करवाने का फैसला लिया है। दूसरे चरण की प्रकिया सितंबर से शुरू होगी।

DET में अब आगे की प्रकिया

Join telegram

रिजल्ट आने के बाद अब उम्मीदवारों को गाइड फाइनल होने के बाद कोर्स वर्क करना होगा। जिसकी एग्जाम छह माह बाद होगी। एग्जाम के 1 माह बाद रिजल्ट जारी होगा। कोर्स वर्क में पास उम्मीदवार को सिनॉप्सिस जमा करना होंगी। जिसके बाद डॉक्टरल रिसर्च कमेटी की मीटिंग होगी। जिसमें शोधार्थी का सब्जेक्ट फाइनल होगा। रजिस्ट्रेशन से तीन साल होने पर थिसिस जमा होगी। थीसिस यूनिवर्सिटी पर्यवेक्षक को भेजेंगी। ओके रिपोर्ट के बाद वाय वा होगा। उसके बाद पीएचडी अवॉर्ड होगी।

खबरें और भी हैं…

हमारे द्वारा प्रकाशित समस्त प्रकार के रोजगार एवं अन्य खबरें संबंधित विभाग की वेबसाइट से प्राप्त की जाती है। कृपया किसी प्रकार के रोजगार या खबर की सत्यता की जांच के लिए संबंधित विभाग की वेबसाइट विजिट करें | अपना मोबाइल नंबर या अन्य कोई व्यक्तिगत जानकारी किसी को भी शेयर न करे ! किसी भी रोजगार के लिए व्यक्तिगत जानकारी नहीं मांगी जाती हैं ! डिजिटल एजुकेशन पोर्टल किसी भी खबर या रोजगार के लिए जवाबदेह नहीं होगा .

Team Digital Education Portal

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please Close Ad Blocker

हमारी साइट पर विज्ञापन दिखाने की अनुमति दें लगता है कि आप विज्ञापन रोकने वाला सॉफ़्टवेयर इस्तेमाल कर रहे हैं. कृपया इसे बंद करें|