EmployeeMp news

संविदा बिजलीकर्मियों की मांग संविदा अवधि 60 वर्ष की जाए बार-बार का झंझट खत्म हो Digital Education Portal

राजधानी के चिनार पार्क में जुटे थे, भजन-कीर्तन कर रखी मांगें।

संविदा बिजलीकर्मियों की मांग, संविदा अवधि 60 वर्ष की जाए, बार-बार का झंझट खत्म होभोपाल प्रतिनिधि। संविदा अवधि 60 वर्ष तक की जाए। अभी हर वर्ष या प्रत्येक तीन वर्ष में बढ़ाई जाती है। कई बार अधिकारी मामूली बातों को तुल देकर संविदा अवधि बढ़ाने से रोक देते है। तब नुकसान होता है। आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। यह मांग प्रदेश भर से आए संविदा बिजली कर्मियों ने मंगलवार रखी है। ये चीनार पार्क में जुटे थे। इन्हें मप्र यूनाइटेड फोरम फार पावर एम्प्लाइज एंड इंजीनियर्स के संयोजक वीकेएस परिहार ने संबोधित किया है। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर से शाम को चार बजे इनके प्रतिनिधि मंडल की मुलाकात हुई। मंत्री को प्रतिनिधि मंडल में शामिल वीकेएस परिहार ने बताया कि प्रदेश में 6000 इंजीनियर, लाइन अटेंडर व अन्य कर्मचारी संविदा पर 10 वर्ष से अधिक समय से कार्यरत हैं। इन्हें काम के बदले पर्याप्त वेतन नहीं मिल रहा है। महंगाई, भत्ता व अन्य लाभ देने में भी आनाकानी की जाती रही है जिसकी वजह से ये आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे हैं। इनकी मांगों का निराकरण जरुरी हो गया है। जिस पर मंत्री ने उचित कार्रवाई का भरोसा दिया है।

मंत्री के सामने ये मांगें भी रखी

– एक से दूसरी कंपनी में स्थानांतरण करने की नीति बनाई जाए।

– निष्कासन में जल्दबाजी न की जाए, बल्कि वैधानिक प्रक्रिया का पालन किया जाए।

– अभी एक प्रतिशत वेतन वृद्धि का लाभ दिया जाता है जिसे बढ़ाकर तीन प्रतिशत किया जाए।

– महंगाई भत्ते का लाभ वर्ष में दो बार दिया जाए, अभी एक बार दिया जा रहा है। इसकी वजह से नुकसान होता है।

– चिकित्सा पूर्ति, दुर्घटना बीमा, अनुकंपा नियुक्ति, जोखिम भत्ता, राष्ट्रीय अवकाश, रात्रिकालीन भत्ते दिए जाए।

Join whatsapp for latest update

– संविदा कर्मचारी का दुर्घटना अथवा मृत्यु उपरांत चार लाख तक बीमा राशि दी जाती है जिसे बढ़ाकर 50 लाख किया जाए।

– परीक्षण सहायक 2013 बेच की भर्ती विसंगति दूर कर उन्हें नियमित किया जाए।

Join telegram

– संविदा नीति 2018 लागू होने के बाद कुछ कंपनियों ने एनपीएस काटना बंद कर दिया है, जिसे पुन: शुरू कराया जाए।

– संविदा कर्मचारियों को नियमित वेतनमान का 90 प्रतिशत भुगतान किया जाए।

– लाइन अडेंटर कर्मचारियों को आइटीआइ पास होने के बाद चतुर्थ श्रेणी में रखा गया है जिन्हें तृतीय श्रेणी में रखा जाए।

  • #Demand for contract electricians
  • #Bhopal News in Hindi
  • #Bhopal Latest News
  • #Bhopal Samachar
  • #MP News in Hindi
  • #Madhya Pradesh News
  • #भोपाल समाचार
  • #मध्य प्रदेश समाचार

हमारे द्वारा प्रकाशित समस्त प्रकार के रोजगार एवं अन्य खबरें संबंधित विभाग की वेबसाइट से प्राप्त की जाती है। कृपया किसी प्रकार के रोजगार या खबर की सत्यता की जांच के लिए संबंधित विभाग की वेबसाइट विजिट करें | अपना मोबाइल नंबर या अन्य कोई व्यक्तिगत जानकारी किसी को भी शेयर न करे ! किसी भी रोजगार के लिए व्यक्तिगत जानकारी नहीं मांगी जाती हैं ! डिजिटल एजुकेशन पोर्टल किसी भी खबर या रोजगार के लिए जवाबदेह नहीं होगा .

Team Digital Education Portal

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please Close Ad Blocker

हमारी साइट पर विज्ञापन दिखाने की अनुमति दें लगता है कि आप विज्ञापन रोकने वाला सॉफ़्टवेयर इस्तेमाल कर रहे हैं. कृपया इसे बंद करें|