educationMp news

मध्य प्रदेश में अब सरकारी और निजी संपत्ति के नुकसान की वसूली के लिए दोषी की संपत्ति भी हो सकेगी कुर्क Digital Education Portal

विधानसभा में पारित हुआ मध्य प्रदेश लोक एवं निजी संपत्ति को नुकसान का निवारण एवं नुकसानी की वसूली विधेयक-2021

मध्‍य प्रदेश में अब सरकारी और निजी संपत्ति के नुकसान की वसूली के लिए दोषी की संपत्ति भी हो सकेगी कुर्क
राज्यपाल की अनुमति मिलते ही विधेयक-2021 राजपत्र में अधिसूचित करके किया जाएगा लागू

भोपाल (राज्य ब्यूरो)। मध्य प्रदेश में अब सरकारी या निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों से सरकार इसकी भरपाई कराएगी। विधानसभा ने गुरुवार को ‘मध्य प्रदेश लोक एवं निजी संपत्ति को नुकसान का निवारण एवं नुकसानी की वसूली विधेयक-2021″ पारित कर दिया। राज्यपाल की अनुमति मिलते ही इसे राजपत्र में अधिसूचित करके लागू कर दिया जाएगा।

इसमें प्रविधान किया गया है कि धरना, जुलूस, हड़ताल, बंद, दंगा या व्यक्तियों के समूह द्वारा पत्थरबाजी, आग लगाने या तोड़फोड़ से सरकारी या निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने पर अब उनसे इसकी क्षतिपूर्ति कराई जाएगी। यदि कोई दोषी हर्जाना नहीं भरता है तो उसकी संपत्ति भी कुर्क की जा सकेगी। अधिनियम के क्रियान्वयन के लिए गृह विभाग नियम बनाएगा, जिन्हें विधानसभा में प्रस्तुत किया जाएगा।

घटना विशेष के लिए दावा अधिकरण होगा गठित

इसमें प्रविधान किया गया है कि सरकार घटना विशेष के लिए दावा अधिकरण गठित करेगी। इसके अध्यक्ष सेवानिवृत्त जिला न्यायाधीश होंगे और एक सदस्य की नियुक्ति की जाएगी, जो सचिव या समकक्ष स्तर के अधिकारी होंगे। अधिकरण नुकसान का आकलन करने के लिए किसी अधिकारी को भी नियुक्त कर सकेगा। अधिकतम तीन माह में क्षतिपूर्ति की राशि निर्धारित की जाएगी, जिसका भुगतान दोषी को 15 दिन में करना होगा। यदि भुगतान नहीं किया जाता है तो दावा अधिकरण कलेक्टर के माध्यम से चल-अचल संपत्ति की नीलामी करके जिसकी संपत्ति को नुकसान पहुंचा है, उसकी प्रतिपूर्ति करवाएगा। यह राशि नुकसान की दोगुनी तक हो सकती है। वसूली नुकसान पहुंचाने वालों के अलावा उन लोगों से भी की जा सकेगी जो ऐसा कृत्य करने के लिए उकसाने या दुष्प्रेरित करने का काम करेंगे।

पांच राज्यों में पहले से है कानून

Join WhatsApp For Latest Update

उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु और हरियाणा में पहले से सरकारी और निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों से वसूली करने का कानून है। मध्य प्रदेश सरकार ने इनका अध्ययन करने के बाद अधिनियम तैयार किया है। इसके दायरे में केंद्र और राज्य सरकार के साथ स्थानीय निकाय, सहकारी संस्था, कंपनियों की और निजी संपत्ति आएंगी।

एक माह के भीतर करना होगा आवेदन

जिस व्यक्ति या सरकारी कार्यालय की संपत्ति को नुकसान पहुंचा है, उसे 30 दिन के भीतर दावा अधिकरण के समक्ष आवेदन करना होगा। सरकारी कार्यालय के प्रभारी अधिकारी को यह आवेदन करना होगा। अधिकरण के आदेश को 90 दिन के भीतर हाई कोर्ट में चुनौती दी जा सकेगी। अधिकरण को दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 195 के तहत सिविल न्यायालय समझा जाएगा। वह समन करने, शपथ पर साक्ष्य लेने, साक्षियों की हाजिरी सुनिश्चित करने, दस्तावेजों का प्रकटीकरण करने के लिए आदेश दे सकेगा। जिस घटना (क्षेत्र) के लिए यह गठित होगा, उस संबंध में सिविल न्यायालय में कोई याचिका स्वीकार नहीं की जाएगी। पुलिस द्वारा दर्ज आपराधिक प्रकरण की कार्रवाई चलती रहेगी।

  • #Dr Narottam Mishra
  • #loss of government and private property
  • #Madhya Pradesh news
  • #Madhya Pradesh government

हमारे द्वारा प्रकाशित समस्त प्रकार के रोजगार एवं अन्य खबरें संबंधित विभाग की वेबसाइट से प्राप्त की जाती है। कृपया किसी प्रकार के रोजगार या खबर की सत्यता की जांच के लिए संबंधित विभाग की वेबसाइट विजिट करें | अपना मोबाइल नंबर या अन्य कोई व्यक्तिगत जानकारी किसी को भी शेयर न करे ! किसी भी रोजगार के लिए व्यक्तिगत जानकारी नहीं मांगी जाती हैं ! डिजिटल एजुकेशन पोर्टल किसी भी खबर या रोजगार के लिए जवाबदेह नहीं होगा .

Team Digital Education Portal

शैक्षणिक समाचारों एवं सरकारी नौकरी की ताजा अपडेट प्राप्त करने के लिए फॉलो करें

Follow Us on Telegram
@digitaleducationportal
@govtnaukary

Follow Us on Facebook
@digitaleducationportal @10th12thPassGovenmentJobIndia

Follow Us on Whatsapp
@DigiEduPortal
@govtjobalert

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please Close Ad Blocker

हमारी साइट पर विज्ञापन दिखाने की अनुमति दें लगता है कि आप विज्ञापन रोकने वाला सॉफ़्टवेयर इस्तेमाल कर रहे हैं. कृपया इसे बंद करें|