Saturday, December 10, 2022
No menu items!
HomeeducationMotivational Story of IAS : चाय की दुकान पर काम करने वाला...

Motivational Story of IAS : चाय की दुकान पर काम करने वाला लड़का ऐसे बना IAS, कभी स्कूल जाने के लिए करता था 70 KM सफर

संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सर्विस एग्जाम (UPSC Civil Service Exam) को सबसे कठीन परीक्षाओं में से एक माना जाता है और इसे पास करने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है. कई बार छोटी जगहों के स्टूडेंट आईएएस बनने का सपना देखते हैं, लेकिन उनके लिए यह इतना आसान नहीं होता और उन्हें अतिरिक्त प्रयास करने पड़ते हैं. ऐसी ही कहानी उत्तराखंड के रहने वाले हिमांशु गुप्ता (Himanshu Gupta) की है, जिन्होंने पिता का हाथ बंटाने के लिए चाय की दुकान पर काम तक किया, लेकिन कड़ी मेहनत से उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा पास की और आईएएस अफसर (IAS Officer) बन गए.

ट्यूशन के पैसों से पढ़ाई कर लाख गरीबी में भी पास कर ली UPSC, कड़े संघर्ष से  IAS बना चाय बेचने वाले का बेटा | ias success story 2019 upsc topper himanshu

ग्रेजुएशन के दौरान बाद देखा यूपीएससी का सपना

उत्तराखंड के उधम सिंह जिले के सितारगंज में जन्मे हिमांशु गुप्ता (Himanshu Gupta) बचपन से पढ़ाई में काफी अच्छे थे और 12वीं के बाद जब वह ग्रेजुएशन कर रहे थे तब उन्होंने यूपीएससी की सिविल सर्विस एग्जाम (UPSC Civil Service Exam) में शामिल होने के बारे में सोचा था.
ये भी पढ़ें- इस लड़की ने एक साथ पास की IIT और UPSC परीक्षा, सिर्फ 22 साल की उम्र में बनी IAS अफसर

गरीबी में बीता हिमांशु गुप्ता का बचपन

हिमांशु गुप्ता (Himanshu Gupta) का बचपन आम बच्चों से काफी अलग था, क्योंकि उनके परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी और उन्होंने अपना बचपन बेहद गरीबी में काटा. हिमांशु के पिता पहले दिहाड़ी मजदूर का काम करते थे, लेकिन इससे मुश्किल से परिवार को गुजारा हो पाता था.

स्कूल के बाद चाय की दुकान पर काम

हिमांशु गुप्ता (Himanshu Gupta) के पिता ने बाद में चाय का ठेला लगाना शुरू किया और हिमांशु भी स्कूल के बाद इस काम में अपने पिता की मदद करते थे. द बेटर इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, हिमांशु बताते हैं, ‘मैंने कई मौकों पर चाय के दुकान पर काम भी किया है और पिता की मदद की.’

बरेली शिफ्ट हो गया परिवार

हिमांशु कहते हैं, ‘मैंने अपने पिता को ज्यादा नहीं देखा, क्योंकि वह अलग-अलग जगहों पर नौकरी खोजने की कोशिश कर रहे थे. यह हमारे लिए आर्थिक रूप से बहुत कठिन था और यह भी एक कारण था कि मेरा परिवार बरेली के शिवपुरी चला गया, जहां मेरे नाना-नानी रहते थे. मुझे वहां के स्थानीय सरकारी स्कूल में दाखिला मिल गया.’ 2006 में हिमांशु का परिवार बरेली जिले के सिरौली चला गया, जहां उनके पिता ने अपना जनरल स्टोर खोला. हिमांशु कहते हैं, ‘आज तक मेरे पिता उसी दुकान को चलाते हैं.’

स्कूल जाने के लिए 70 किलोमीटर सफर

बरेली के सिरौली जाने के बाद भी हिमांशु गुप्ता (Himanshu Gupta) की मुश्किलें कम नहीं हुईं, क्योंकि यहां स्कूल जाने के लिए उनको रोजाना 70 किलोमीटर की यात्रा करनी पड़ती थी. हिमांशु कहते हैं, ‘निकटतम इंग्लिश मीडियम स्कूल 35 किमी दूर था और वह हर दिन 70 किमी की यात्रा करते थे.

12वीं के बाद पहुंचे डीयू में लिया एडमिशन

12वीं के बाद हिमांशु गुप्ता (Himanshu Gupta) ने दिल्ली के हिंदू कॉलेज में एडमिशन लिया और यह पहला मौका था जब उन्होंने किसी मेट्रो सिटी में कदम रखा था. पिता की आर्थिक स्थिति को देखते हुए हिमांशु ने दिल्ली में पैसों की समस्या हल करने के लिए पढ़ाई के साथ ही बहुत से काम किए. उन्होंने ट्यूशन पढ़ाए, पेड ब्लॉग्स लिखे और कई स्कॉलरशिप हासिल की. ग्रेजुएशन के बाद हिमांशु ने डीयू से पर्यावरण विज्ञान में मास्टर डिग्री के लिए दाखिला लिया और कॉलेज में टॉप किया. इसके बाद हिमांशु के पास विदेश जाकर पीएचडी करने का मौका था, लेकिन उन्होंने देश में रहने का फैसला किया.

तीन बार पास की यूपीएससी परीक्षा

हिमांशु गुप्ता (Himanshu Gupta) ने साल 2016 में भारत में रहने और यूपीएससी की ओर रुख करने का फैसला किया. इसके बाद उन्होंने कड़ी मेहनत की और साल 2018 में पहली बार यूपीएससी एग्जाम दिया और पास हो गए, लेकिन उनका चयन भारतीय रेलवे यातायात सेवा (IRTS) के लिए हुए. इसके बाद भी उन्होंने तैयारी जारी रखी और 2019 में फिर से परीक्षा दी. दूसरे प्रयास में हिमांशु का चयन भारतीय पुलिस सेवा (IPS) के लिए हुआ. 2020 में अपने तीसरे प्रयास में वे भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) में शामिल हो गए.
लाइव टीवी

हमारे द्वारा प्रकाशित समस्त प्रकार के रोजगार एवं अन्य खबरें संबंधित विभाग की वेबसाइट से प्राप्त की जाती है। कृपया किसी प्रकार के रोजगार या खबर की सत्यता की जांच के लिए संबंधित विभाग की वेबसाइट विजिट करें | अपना मोबाइल नंबर या अन्य कोई व्यक्तिगत जानकारी किसी को भी शेयर न करे ! किसी भी रोजगार के लिए व्यक्तिगत जानकारी नहीं मांगी जाती हैं ! डिजिटल एजुकेशन पोर्टल किसी भी खबर या रोजगार के लिए जवाबदेह नहीं होगा .

Team Digital Education Portal

शैक्षणिक समाचारों एवं सरकारी नौकरी की ताजा अपडेट प्राप्त करने के लिए फॉलो करें

Follow Us on Telegram
@digitaleducationportal
@govtnaukary

Follow Us on Facebook
@digitaleducationportal @10th12thPassGovenmentJobIndia

Follow Us on Whatsapp
@DigiEduPortal
@govtjobalert

RELATED ARTICLES
spot_img

Most Popular

MP News: चिंतनीय हकीकत… 13 से 15 की उम्र में ही सिगरेट पीने की आदी हो रहीं लड़कियां Digital Education Portal

मध्यप्रदेश में बीड़ी पीने में पीछे नहीं रही लड़कियां, 100 में से 11 लड़कियां बीड़ी तो सात पी रहीं सिगरेट। औसतन 13 से 15...

💥बड़ी खबर 💥 गैर शैक्षणिक कार्य में संलग्न शिक्षकों की जानकारी अब विमर्श पोर्टल पर करना होगी अपलोड, जानकारी अपलोड नहीं करने वाले प्राचार्य...

Vimarsh portal,vimarsh portal ger shaikshanik vimarsh modules, Education, education portal, educational news, शिक्षा विभाग खबरें,teacher News, विमर्श पोर्टल,मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग अब गैर...

💥बड़ी खबर 💥 प्राथमिक शिक्षकों को मिलेंगे टेबलेट (mini computer), दिसंबर माह में ही खरीदना होगा अनिवार्य ,राज्य शिक्षा केंद्र करेगा भुगतान

मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग, प्राथमिक शिक्षक को मिलेंगे टेबलेट ,प्राथमिक शिक्षक टेबलेट, स्कूल शिक्षा विभाग, इंदर सिंह परमार ,डीपीआई ,लोक शिक्षण संचालनालय मध्य...

💥Mp बोर्ड विद्यार्थियों के लिए बड़ी खबर 💥 कक्षा 9 से 12 की होने वाली अर्धवार्षिक परीक्षा हुई स्थगित

मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा कक्षा 9 से 12 की 1 दिसंबर से 8 दिसंबर के मध्य आयोजित होने वाली अर्धवार्षिक परीक्षा कोई...