education

💥MP school reopening breaking news 💥 1 सितंबर से खुलेंगे 6ठी से 12वीं तक के स्कूल, 50% क्षमता के साथ अभिभावकों की सहमति होगी जरूरी, स्कूल शिक्षा विभाग ने जारी किए निर्देश

Digital Education Portal मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा 1 सितंबर से कक्षा छठी से बारहवीं तक के स्कूलों को 50% क्षमता के साथ नियमित रूप से खोलने का निर्णय लिया गया है। इस संबंध में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा आज आदेश जारी कर दिया गया है।

राज्य शासन द्वारा 1 सितंबर 2021 से समस्त कार्य दिवसों में शासकीय / अशासकीय स्कूलों में कक्षा 6वीं से 12वीं तक सभी कक्षाओं के लिए 50 प्रतिशत क्षमता के साथ विद्यालय संचालन हेतु अनुमति प्रदान की गई है।

राज्य स्तर से जारी एसop का करना होगा पालन

इस दौरान भारत / राज्य स्तर से समय-समय पर जारी एस.ओ.पी एवं कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना अनिवार्य होगा।

कोविड-19 महामारी के परिप्रेक्ष्य में प्रदेश के समस्त शासकीय / अशासकीय स्कूलों को खोलने संबंधी समसंख्यक निर्देश दिनांक 23. 7.2021 के द्वारा कक्षा 9 से 12वीं तक की कक्षाओं को प्रति कक्षा अधिकतम सप्ताह में 2 दिवस (50 प्रतिशत क्षमता के साथ) संचालन की अनुमति प्रदान की गई थी। इस निर्देश के अनुक्रम में राज्य शासन एतद् द्वारा 1 सितंबर 2021 से सप्ताह के समस्त कार्य दिवसों में कक्षा 6 से 12 वीं तक सभी कक्षाओं के लिए 50 प्रतिशत क्षमता के साथ विद्यालय संचालन हेतु अनुमति प्रदान कर दी गई हैं।

इन शर्तों का करना होगा पालन

शालाओं के संचालन हेतु निम्नलिखित शर्तों का पालन किया जाना अनिवार्य होगा :

शासकीय तथा अशासकीय शालाओं के शिक्षकों का वैक्सीनेशन अनिवार्य

शालाओं में कार्यरत समस्त स्टॉफ को टीके का कम से कम 01 डोज लगा हो। यदि किसी स्टाफ द्वारा 1 भी डोज का टीकाकरण नही करवाया गया हो तो संबंधित को तत्काल टीकाकरण कराना होगा।

अभिभावकों की सहमति होगी अनिवार्य

मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा जारी निर्देशों के अनुरूप 1 सितंबर से स्कूलों में बच्चों को नियमित रूप से भेजने के संबंध में अभिभावकों की सहमति अनिवार्य होगी।

Join whatsapp for latest update

कोरोना प्रोटोकॉल का करना होगा पालन

प्राचार्य / प्रधानाध्याक / शाला प्रमुख अपने स्तर से विद्यार्थी संख्या एवं उपलब्ध अधोसंरचना के आधार पर कोविड- 19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए कक्षावार शालाएं संचालन के संबंध में निर्णय ले सकेंगे। स्कूलों में भारत सरकार / राज्य स्तर से जारी (Standard operating Procedure) समय समय पर जारी एस ओ पी एवं कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जाना अनिवार्य होगा।

ऑनलाइन कक्षाएं रहेगी जारी

शालाओं में कक्षावार नियत दिवसों के अतिरिक्त अन्य दिवसों में ऑन लाईन कक्षाएं पूर्ववत संचालित की जा सकेंगी। दूरदर्शन एवं व्हाटसएप ग्रुप पर शैक्षिक सामग्री का प्रसारण पूर्ववत जारी रहेगा।

Join telegram

स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश

मध्यप्रदेश में कक्षा छठी से 12वीं के स्कूलों को खोलने के संबंध में स्कूल शिक्षा विभाग भोपाल द्वारा हाल ही में आदेश जारी कर दिए गए। डिजिटल एजुकेशन पोर्टल आपकी सुविधा के लिए आदेश उपलब्ध करा रहा है।

20210827 2131108617286632168245142
💥Mp School Reopening Breaking News 💥 1 सितंबर से खुलेंगे 6ठी से 12वीं तक के स्कूल, 50% क्षमता के साथ अभिभावकों की सहमति होगी जरूरी, स्कूल शिक्षा विभाग ने जारी किए निर्देश 8

मध्यप्रदेश में 1 सितंबर से 6वीं से 8वीं तक की क्लास भी शुरू हो जाएंगी। क्लास में 50 % बच्चे उपस्थित रह सकेंगे। ये निर्णय शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिया गया। क्लास के संचालन के दौरान पैरेंट्स की सहमति और कोविड 19 की गाइडलाइन का पालन अनिवार्य है। बैठक में स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) राज्यमंत्री इंदर सिंह परमार एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

अभी इस तरह स्कूल चल रहे

  • सिर्फ 50% क्षमता के साथ 9वीं से 12वीं की क्लास लग रही हैं। 11वीं और 12वीं की क्लास सप्ताह में दो दिन है। 9वीं और 10वीं की क्लास सप्ताह में एक दिन।
  • जहां बच्चों के बैठने की समुचित व्यवस्था नहीं है, वहां सप्ताह में एक दिन छोटे-छोटे ग्रुप में क्लास लगाई जा सकती है।
  • बच्चों को स्कूल भेजने के लिए अभिभावकों की अनुमति जरूरी होगी।
  • स्कूल में कोरोना से निपटने के लिए सभी तरह के तरीके जैसे सैनिटाइजर, मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्य होगा।
  • सभी शिक्षकों और कर्मचारियों का 100% वैक्सीनेशन होना अनिवार्य।
  • बच्चे की तबीयत खराब होने पर उसे तत्काल अस्पताल ले जाने के साथ ही अभिभावकों को सूचना देना अनिवार्य है।

स्कूल संचालकों का दबाव काम आया
दो दिन पहले ही प्राइवेट स्कूल संचालक शिक्षा मंत्री से मिले थे। उन्हें भी मंत्री परमार ने जल्द ही स्कूल खोले जाने का आश्वासन दिया था। स्कूल संचालकों ने छोटे बच्चों के लिए स्कूल नहीं खोले जाने पर प्रदर्शन करने की बात कही थी। इन्हीं सब को देखते हुए अब पिछले दो साल से बंद चल रहे स्कूल सभी बच्चों के लिए खोले जाने की प्लानिंग पर स्कूल शिक्षा विभाग काम शुरू कर दिया था।

दूसरी लहर की तुलना में कम गंभीर
प्रोफेसर मनिंद्र अग्रवाल ने इससे पहले जुलाई में रिपोर्ट जारी की थी। इसमें कहा था कि यदि कोरोना का नया म्यूटेंट आता है, तो तीसरी लहर तेजी से फैल सकती है, लेकिन यह दूसरी लहर की तुलना में आधी होगी। उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे वैक्सीनेशन अभियान आगे बढ़ेगा, तीसरी या चौथी लहर की आशंका कम होगी।

यह प्लान तैयार किया गया है

जिला क्राइसिस मैनेजमेंट के साथ स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी और प्रिंसिपल जिलों में मिलने वाले कोरोना के केस की समीक्षा करेंगे। वर्तमान में चल रही 9वीं से लेकर 12वीं तक की क्लास लगने के दिन बढ़ाए जाएंगे। यह सप्ताह में एक क्लास के लिए तीन दिन तक हो सकते हैं। 6वीं से लेकर 8वीं तक की क्लास को शुरू करने पर विचार किया जा रहा है। यह सप्ताह में दो दिन लग सकती हैं। सबसे अंत में सितंबर के दूसरे सप्ताह में पहली से लेकर 5वीं तक की क्लास शुरू की जा सकती है। यह एक दिन हो सकती है। सोसायटी फॉर प्राइवेट स्कूल डायरेक्टर्स (सोपास) मध्यप्रदेश का प्रदेश प्रतिनिधिमंडल प्रदेश अध्यक्ष डॉ आशीष चटर्जी के नेतृत्व में स्कूल शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव रश्मि अरुण शमी से मंत्रालय में मिला। इस दौरान सोपास ने कक्षा नर्सरी से लेकर कक्षा 12वीं तक के सभी कक्षाओं को अविलंब प्रारंभ करने का आदेश जारी करने की मांग की थी। इसके साथ ही 5 वर्ष की मान्यता नवीनीकरण के लिए आदेश किया जाए।

– इस खबर को लगातार अपडेट किया जा रहा है

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please Close Adblocker to show content