education

“बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” : कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान आज से होगा शुरू
शाला त्यागी बालिकाओं को कराया जाएगा पुन: प्रवेश

प्रदेश में शाला त्यागी बालिकाओं को पुन: अपनी शिक्षा नियमित करने के उद्देश्य से महिला-बाल विकास विभाग द्वारा 7 मार्च से ‘कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव’ अभियान शुरू होगा। “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” के लिए अभियान का मुख्य उद्देश्य 11 से 14 वर्ष की शाला त्यागी बालिकाओं को पहचान कर उनको स्कूलों में पुन: प्रवेश सुनिश्चित कराना है।

20220307 071056
"बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ" : कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान आज से होगा शुरू
शाला त्यागी बालिकाओं को कराया जाएगा पुन: प्रवेश 5

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2015 में शुरू किए गए “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” अभियान का सम्पूर्ण लक्ष्य बालिका के जन्म का उत्सव मनाना और उनको शिक्षित कर सक्षम बनाना है। महिला-बाल विकास विभाग द्वारा शाला त्यागी किशोरियों को तीन सौ दिवस तक प्रोटीन, कैलोरी युक्त टेक होम राशन दिए जाने का भी प्रावधान है। विभाग द्वारा प्रतिवर्ष अप्रैल माह में आँगनवाड़ी केन्द्रों का सर्वे कराया जाता है। इसमें 11 से 14 वर्ष की ऐसी किशोरियों की जानकारी एकत्र की जाती है। ऐसी बालिकाएँ जिन्होंने स्कूल छोड़ दिया है, शाला में एडमिशन नहीं लिया है, एक बार एडमिशन तो लिया है परंतु शाला नहीं जा रही या कुछ समय जाकर शाला जाना बंद कर दिया है, को टेक होम राशन दिया जाता है।

Show More

Leave a Reply

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please Close Adblocker to show content