educationvacancy

💥बड़ी खबर💥 : मध्यप्रदेश की ग्राम पंचायतों में फिर से होगी ग्राम रोजगार सहायकों (सहायक सचिव) की भर्ती, रोजगार गारंटी परिषद ने जारी किए ये निर्देश

GRS,mp grs bharti,gram rojgar sahayak advertisement,gram rojgar sewak, ग्राम रोजगार सहायक भर्ती, ग्राम रोजगार सेवक, पंचायत ग्रामीण विकास विभाग,सहायक सचिव,

Grs,mp grs bharti,gram rojgar sahayak advertisement,gram rojgar sewak, ग्राम रोजगार सहायक भर्ती, ग्राम रोजगार सेवक, पंचायत ग्रामीण विकास विभाग,सहायक सचिव,
Mp Grs Vacancy 2022

यदि आप ग्राम रोजगार सेवक (GRS) बनकर गांव के विकास में भागीदार बनना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को पूरा जरूर पढ़े। इस लेख में हम ग्राम रोजगार सेवक (GRS) क्या होता है, ग्राम रोजगार सेवक कैसे बने (Gram Rojgar Sevak Kaise Bane), रोजगार सेवक बनने के लिए योग्यता क्या है, रोजगार सेवक बनने के लिए उम्र सीमा क्या होनी चाहिए आदि ग्राम रोजगार सेवक से जुड़े सवालों के जवाब देने वाले हैं।

मध्यप्रदेश की ग्राम पंचायतों में एक बार फिर से ग्राम रोजगार सहायकों की भर्ती प्रक्रिया प्रारंभ होगी। आपको बता दे कि वर्ष 2012 से ग्राम रोजगार सहायकों की भर्ती प्रक्रिया बंद है।

मनरेगा योजना अंतर्गत सहायक सचिव (ग्राम रोजगार सहायक) के रिक्त पदों पर जल्द भर्ती करने के निर्देश

मध्य प्रदेश मनरेगा महात्मा गांधी ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना अंतर्गत प्रत्येक ग्राम पंचायत में 1 ग्राम रोजगार सहायक (सहायक सचिव) की नियुक्ति के नियम हैं. जिसके अंतर्गत मध्यप्रदेश पंचायत ग्रामीण विकास विभाग द्वारा वर्ष 2012 के बाद से ही विभिन्न ग्राम पंचायतों में रिक्त पड़े ग्राम रोजगार सहायक सहायक सचिव के पदों पर भर्ती प्रक्रिया प्रतिबंधित कर रखी थी।

मध्य प्रदेश महात्मा गांधी राज्य रोजगार गारंटी परिषद के आयुक्त द्वारा आज सभी जिला कलेक्टर को ग्राम पंचायतों में रिक्त पड़े ग्राम रोजगार सहायक (सहायक सचिव) के पदों को भरने के निर्देश जारी किए गए हैं। माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव को देखते हुए अब शीघ्र ही ग्राम पंचायतों में रिक्त ग्राम रोजगार सहायक के पदों पर भर्ती प्रारंभ होगी। यह भर्ती बड़े स्तर पर हो सकती है क्योंकि ग्राम पंचायतों में हजारों की संख्या में ग्राम रोजगार सहायक के पद रिक्त हैं।

महात्मा गांधी ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना मनरेगा अंतर्गत होती है रोजगार सहायकों की भर्ती

महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना मध्य प्रदेश में वर्ष 2008 से लागू है। इस योजना को मनरेगा योजना के नाम से भी जाना जाता है। मनरेगा योजना अंतर्गत कार्यों की संचालन तथा देखरेख एवं रिकॉर्ड संरक्षण करने के साथ ही विभागीय योजनाओं के सफल क्रियान्वयन के उद्देश्य से प्रत्येक ग्राम पंचायत में 1 ग्राम रोजगार सहायक का पद सृजित किया गया था।

मनरेगा योजना अंतर्गत प्रत्येक ग्राम वासी परिवार को 1 वर्ष में न्यूनतम 100 दिवस का रोजगार प्रदान करने की गारंटी दी जाती है। इस योजना अंतर्गत मध्य प्रदेश कि प्रत्येक ग्रामीण परिवार को एक जॉब कार्ड जारी किया जाता है जिसके आधार पर किए गए कार्य की गणना एवं मजदूरी भुगतान की जानकारी होती हैं।

Join whatsapp for latest update

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में 23000 से ज्यादा ग्राम पंचायतें हैं जिनमें प्रत्येक ग्राम पंचायत के हिसाब से 23000 ग्राम रोजगार सहायक सहायक सचिव की नियुक्ति होना है जिसके अंतर्गत अभी तक 50% से ज्यादा ग्राम रोजगार सहायक के पद रिक्त हैं।

ग्राम रोजगार सहायक वेतन एवं आवश्यक योग्यता

मध्य प्रदेश में मनरेगा योजना अंतर्गत नियुक्त होने वाले ग्राम रोजगार सहायकों के लिए निम्नानुसार शैक्षणिक योग्यताएं अनिवार्य है 👇

Join telegram

💁 ग्राम रोजगार सहायक के लिए केवल उसी पंचायत में निवासरत आवेदक ही आवेदन कर सकते हैं।

💁 ग्राम रोजगार सहायक अर्थात सहायक सचिव के लिए न्यूनतम हायर सेकेंडरी परीक्षा अर्थात कक्षा 12 वीं पास होना अनिवार्य है। Gram rojgar sahayak GRS की भर्ती 12वीं परीक्षा के प्राप्त अंकों के आधार पर मेरिट क्रम में की जाती है।

💁 ग्राम रोजगार सहायक अर्थात सहायक सचिव के लिए वांछित योग्यता के रूप में कंप्यूटर का एक वर्षीय डिप्लोमा भी अनिवार्य किया गया है। किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी या संस्था से 1 वर्ष का कंप्यूटर डिप्लोमा होना चाहिए।

ग्राम रोजगार सहायक जीआरएस सहायक सचिव का वेतन एवं नीति का प्रकार

जीआरएस यानी कि ग्राम रोजगार सहायक की भर्ती संविदा आधार पर की जाती है यह भर्ती संबंधित ग्राम पंचायत एवं जनपद पंचायत द्वारा की जाती है।

ग्राम रोजगार सहायक अर्थात जीआरएस या सहायक सचिव को प्रतिमाह ₹9000 पारिश्रमिक भुगतान किया जाता है।

आयु सीमा (Age Limit)

जिस तरह सरकारी पदों में नौकरी देने के लिए सरकार द्वारा आयु सीमा का निर्धारण किया जाता है उसी प्रकार ग्राम रोजगार सेवक (GRS) बनने  के लिए भी आयु सीमा का निर्धारण किया गया है।  रोजगार सेवक बनने के लिए न्यूनतम आयु 18 वर्ष और अधिकतम आयु 40 वर्ष तक निर्धारित की गई है। इसके साथ ही जन्मतिथि के लिए  हाई स्कूल के मार्कशीट को आधार माना गया है तथा आरक्षण प्रावधान के अनुसार दिया जाएगा। 

रोजगार सेवक पद में भर्ती होने के लिए जरुरी दस्तावेज

सरकार ने इस पद में भर्ती लेने के लिए कुछ जरुरी दस्तावेज का होना अनिवार्य किया है जो इस प्रकार है –

  • मूल निवासी प्रमाण पत्र 
  • जाती प्रमाण पत्र 
  • दिव्यांग सर्टिफिकेट (यदि आप PWD वर्ग से सम्बन्ध रखते है तो)
  • पासपोर्ट साइज फोटो 
  • हाई स्कूल व इंटरमीडिएट का रिजल्ट व पासिंग सर्टिफिकेट
  • हायर सेकेंडरी स्कूल सर्टिफिकेट कक्षा 12 की मार्कशीट 
  • ओ लेवल सर्टिफिकेट 

ग्राम रोजगार सहायक की चयन प्रक्रिया 

ग्राम रोजगार सेवक (GRS) बनने के लिए आपको किसी भी प्रकार की परीक्षा देने की आवश्यकता नहीं पड़ती केवल 12वी कक्षा में आए अंकों के आधार पर एक मेरिट सूचि द्वारा इस पद के लिए का चयन किया जाता है। 

जी आर एस ग्राम रोजगार सहायक के कार्य

  • मनरेगा योजना के तहत जॉब कार्ड बनाना। 
  • मनरेगा में काम करने वाले ग्रामीणों की अटेंडेंस लगाना।  
  • मनरेगा में काम करने वाले ग्रामीणों की दिहाड़ी का ब्यौरा करना अर्थात मास्टर रोल बनाना। 
  • ग्राम स्तर पर समय समय पर सर्वे करना। 
  • राशन कार्ड बनवाने में ग्राम के लोगो की मदद करना। 
  • ग्राम पंचायत के विभिन्न निर्माण कार्य की केशबुक लिखना
  • मनरेगा योजना अंतर्गत विभिन्न निर्माण कार्यों के भुगतान करवाना

इसके अतिरिक्त ग्राम विकास विभाग द्वारा कई तरह के कार्यो को करने के लिए रोजगार सेवक को सौपा जाता है। 

मध्य प्रदेश रोजगार गारंटी परिषद द्वारा रोजगार सहायकों की भर्ती के लिए जारी निर्देश देखें

मध्यप्रदेश राज्य रोजगार गारंटी परिषद भोपाल द्वारा मध्यप्रदेश में रिक्त रोजगार सहायकों के पदों पर भर्ती के लिए जारी निर्देश आपकी सुविधा के लिए डिजिटल एजुकेशन पोर्टल यहां पर उपलब्ध करवा रहा है।

Show More

Leave a Reply

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please Close Adblocker to show content