सुबह 11 बजे से 1.30 बजे तक विद्यार्थियों को अलग-अलग समय पर प्रवेश दिया गया। वहीं प्रश्नपत्र के पैटर्न में भी मामूली बदलाव किया गया है। यह परीक्षा पूर्णतया पेन एंड पेपर मोड पर हुई। परीक्षार्थियों का कहना है कि पेपर आसान था, लेकिन भौतिकी और जीवविज्ञान के प्रश्न लेंदी पूछे गए थे, जिससे समय कम पड़ गया। वहीं विशेषज्ञ का मानना है कि पेपर आसान था, लेकिन रसायनशास्त्र में सैद्धांतिक सवाल अधिक होने के कारण पेपर कठिन रहा होगा। इस बार एनसीईआरटी किताब से तीनों विषयों में अधिकतर सवाल पूछे गए।

-720 अंक का पूरा पेपर था। भौतिकी के प्रश्न लेंदी थे, जिसे हल करने में समय लग गया।

भव्या सोलंकी, छात्रा

– भौतिकी के सवाल कठिन लगे। निगेटिव मार्किंग भी है तो कुछ कठिन सवालों को हल करने का प्रयास नहीं किया।

मेहरीन खान, छात्रा

– पेपर अच्छा था। जीवविज्ञान के सवाल लेंदी थे, जिससे समय कम पड़ गया। पिछले सालों के मुकाबले पेपर ठीक था।

वैष्णवी शर्मा, छात्रा

पेपर कठिन आया था। रसायनशास्त्र के सवाल आसान थे। भौतिकी के प्रश्न कठिन और जीवविज्ञान के सवाल लेंदी पूछे गए थे।

हरिओम गुप्ता, छात्र

विशेषज्ञ की राय

-भौतिकी के सभी सवाल आसान थे। फार्मूला आधारित सिंगल स्टेप सवाल पूछे गए थे तो विद्यार्थियों के लिए आसान रहा होगा। चार अंक का एक सवाल तार्किक पूछा गया था, लेकिन कांसेप्ट आधारित सवाल सही नहीं था।

-जीवविज्ञान के सवाल कठिन नहीं, बल्कि लेंदी था। जीवविज्ञान के सभी सवाल 11वीं व 12वीं के एनसीईआरटी से पूछे गए थे। पहले डायग्राम आधारित सवाल अधिक आते थे। इस बार एक भी डायग्राम नहीं पूछा गया। जीवविज्ञान में मैचिंग के सवाल अधिक पूछे गए थे।

-रसायनशास्त्र के सवाल कठिन लगे होंगे, क्योंकि इस बार न्यूमेरिकल के सवाल अधिक ना आकर स्टेटमेंट आधारित सवाल अधिक पूछे गए थे। पिछले साल के पेपर से इस बार के सवाल कठिन थे।

– रणधीर सिंह

# NEET Exam 2022

  • # MBBS Entrance Exam
  • # NEET Exam in Bhopal
  • # Bhopal News in Hindi
  • # Bhopal Latest News
  • # Bhopal Samachar
  • # MP News in Hindi
  • # Madhya Pradesh News
  • # भोपाल समाचार
  • # मध्य प्रदेश समाचार