educationEducational NewsNEP

🌟नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 बड़ी खबर 🌟 कक्षा 9 से 12 के लिए अब दो बार होगी परीक्षा, 150 विषय का मिलेगा विकल्प, फिर से लागू होगा सेमेस्टर सिस्टम, 3 से 8 वर्ष के विद्यार्थियों के लिए बैग लेस होगा स्कूल

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020,परीक्षा,सेमेस्टर सिस्टम,बैग लेस स्कूल,एनईपी ,शिक्षा नीति,digital education portal,educational news,education update,education,school news,students news,new education policy 2020,

School Students big Update: 29 जुलाई को एनईपी की घोषणा की तीसरी वर्षगांठ है। एनईपी की घोषणा 2020 में की गई थी। इससे पहले एक नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति भी आ सकती है। प्री-कमीशन परीक्षाएं अब कक्षा 9 से 12 तक सेमेस्टर प्रणाली पर वर्ष में दो बार आयोजित की जाती हैं।

School Students big Update: 29 जुलाई को एनईपी की घोषणा की तीसरी वर्षगांठ है। एनईपी की घोषणा 2020 में की गई थी। इससे पहले एक नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति भी आ सकती है। प्री-कमीशन परीक्षाएं अब कक्षा 9 से 12 तक सेमेस्टर प्रणाली पर वर्ष में दो बार आयोजित की जाती हैं।

जैसा कि आप जानते हैं नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति की तैयारी काफी समय से चल रही है। अब ग्रेड III से XII के लिए एक राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा विकसित की गई है, जो नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुरूप तैयार की गई है। इसे जल्द ही रिलीज भी किया जा सकता है.

New Education Policy 2020 फिर से साल में दो बार आयोजित होंगी बोर्ड की परीक्षाएं 

अब एक बार फिर से कक्षा 9वी से कक्षा 12वीं तक सेमेस्टर सिस्टम से पढ़ाई होगी. विद्यार्थियों को साल में दो बार बोर्ड की परीक्षाएं देनी होगी. बता दे कि कुछ साल पहले भी बोर्ड के तरफ से साल में दो बार परीक्षा ली जाती थी, परंतु फिर नियमों में बदलाव करते हुए 1 साल में एक बार परीक्षा ली जाने लगी. 9वीं व 10वीं और 11वीं व 12वीं के छात्रों को साल में कुल 16 Paper देने होंगे. 9वी का रिजल्ट दसवीं के Final Certificate में जोड़ा जाएगा, इसी प्रकार 11वीं के अंक 12वीं के Result में जोड़े जाएंगे. उसके बाद ही सर्टिफिकेट दिया जाएगा.

छात्रों को साल में दो बार परीक्षा देनी होगी। पहले काउंसिल पहले साल में दो बार परीक्षा लेती थी, लेकिन नियम में बदलाव के कारण परीक्षा साल में एक बार ली जाने लगी। कक्षा 9, 10, 11 और 12 के छात्रों को प्रति वर्ष 16 असाइनमेंट देने होंगे। 9वीं का परिणाम 10वीं के प्रमाणपत्र में जोड़ा जाता है, 11वीं का परिणाम 12वीं में जोड़ा जाता है। इसके बाद आपको एक सर्टिफिकेट मिलेगा

इसके लिए आठ पाठ्यक्रमों के विषयों को नौवें और दसवें पाठ्यक्रम में चुना जाता है। इसमें पेशेवर, भौतिक, सामाजिक विज्ञान, कला, मानविकी, भाषा विज्ञान और गणित के साथ-साथ अंतःविषय समूह भी शामिल हैं।

नौवीं व दसवीं में 8 स्ट्रीम होंगे. इनमें वोकेशनल एजुकेशन,फिजिकल एजुकेशन, सोशल साइंस, आर्ट्स, मानविकी व भाषा, मैथमेटिक्स, इंटर डिसीप्लिनरी ग्रुप आदि शामिल होंगे. इन 8 ग्रुप में हर में से दो- दो यानी की कुल मिलाकर 16 पेपर होंगे. इन 8 ग्रुप में से न्यूनतम 3 समूहों से 4 सब्जेक्ट को Select किया जाएगा. हर विषय के 4 पेपर होंगे, Select करने के लिए 150 विकल्प मिलेंगे. अभी तक 11वी व 12वी के स्तर पर साइंस, कॉमर्स व आठ ही संकाय है. अब संकाय का कोई भी विभाजन नहीं बचेगा, यहां तक कि संगीत, खेल क्राफ्ट गतिविधियों को आर्ट एजुकेशन, फिजिकल एजुकेशन, आदि सभी को सामाजिक विज्ञान के बराबर ही समझा जाएगा.

New Education Policy 2020 इस प्रकार किया जाएगा सब्जेक्टस का चयन  

नौवीं व दसवीं में 8 स्ट्रीम होंगे. इनमें वोकेशनल एजुकेशन,फिजिकल एजुकेशन, सोशल साइंस, आर्ट्स, मानविकी व भाषा, मैथमेटिक्स, इंटर डिसीप्लिनरी ग्रुप आदि शामिल होंगे. इन 8 ग्रुप में हर में से दो- दो यानी की कुल मिलाकर 16 पेपर होंगे. इन 8 ग्रुप में से न्यूनतम 3 समूहों से 4 सब्जेक्ट को Select किया जाएगा. हर विषय के 4 पेपर होंगे, Select करने के लिए 150 विकल्प मिलेंगे. अभी तक 11वी व 12वी के स्तर पर साइंस, कॉमर्स व आठ ही संकाय है. अब संकाय का कोई भी विभाजन नहीं बचेगा, यहां तक कि संगीत, खेल क्राफ्ट गतिविधियों को आर्ट एजुकेशन, फिजिकल एजुकेशन, आदि सभी को सामाजिक विज्ञान के बराबर ही समझा जाएगा.

Join WhatsApp For Latest Update
नौवीं व दसवीं में 8 स्ट्रीम होंगे. इनमें वोकेशनल एजुकेशन,फिजिकल एजुकेशन, सोशल साइंस, आर्ट्स, मानविकी व भाषा, मैथमेटिक्स, इंटर डिसीप्लिनरी ग्रुप आदि शामिल होंगे. इन 8 ग्रुप में हर में से दो- दो यानी की कुल मिलाकर 16 पेपर होंगे. इन 8 ग्रुप में से न्यूनतम 3 समूहों से 4 सब्जेक्ट को Select किया जाएगा. हर विषय के 4 पेपर होंगे, Select करने के लिए 150 विकल्प मिलेंगे. अभी तक 11वी व 12वी के स्तर पर साइंस, कॉमर्स व आठ ही संकाय है. अब संकाय का कोई भी विभाजन नहीं बचेगा, यहां तक कि संगीत, खेल क्राफ्ट गतिविधियों को आर्ट एजुकेशन, फिजिकल एजुकेशन, आदि सभी को सामाजिक विज्ञान के बराबर ही समझा जाएगा.

दो-दो के ये आठ समूह कुल 16 पेपर लिखते हैं। इन आठ समूहों में से कम से कम तीन समूहों में से चार विषयों का चयन किया जाता है। प्रति विषय चार पोस्ट होंगी और चुनने के लिए 150 विकल्प होंगे।

11वीं और 12वीं कक्षा में केवल आठ प्राकृतिक विज्ञान पाठ्यक्रम हैं। अब शिक्षा का कोई क्षेत्र नहीं रहेगा; खेल, शिल्प, संगीत, कला शिक्षा, आदि। सामाजिक विज्ञान के समान स्तर पर रखा गया है।

[table id=6 /]

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please Close Ad Blocker

हमारी साइट पर विज्ञापन दिखाने की अनुमति दें लगता है कि आप विज्ञापन रोकने वाला सॉफ़्टवेयर इस्तेमाल कर रहे हैं. कृपया इसे बंद करें|