Yogasanyouth day

सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां

मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा स्वामी विवेकानंद की जयंती पर प्रतिवर्ष सूर्य नमस्कार का आयोजन संपूर्ण मध्यप्रदेश में किया जाता है। सूर्य नमस्कार के माध्यम से पूरे प्रदेश में योग के द्वारा शरीर को स्वस्थ रखने का संदेश दिया जाता है।

Table of contents

1610410837357 12111499184720369118
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 26

सूर्य नमस्कार के लिए मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा जारी आदेश 👇

मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा स्वामी विवेकानंद की जयंती पर प्रतिवर्ष सूर्य नमस्कार का आयोजन संपूर्ण मध्यप्रदेश में किया जाता है। सूर्य नमस्कार के माध्यम से पूरे प्रदेश में योग के द्वारा शरीर को स्वस्थ रखने का संदेश दिया जाता है।
मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा स्वामी विवेकानंद की जयंती पर प्रतिवर्ष सूर्य नमस्कार का आयोजन संपूर्ण मध्यप्रदेश में किया जाता है। सूर्य नमस्कार के माध्यम से पूरे प्रदेश में योग के द्वारा शरीर को स्वस्थ रखने का संदेश दिया जाता है।
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश

सूर्य नमस्कार की पूरी प्रक्रिया 12 आसनों में पूर्ण होती है। इन 12 आसन को क्रमशः एक के बाद एक पूर्ण करने के बाद ही एक सूर्य नमस्कार पूर्ण माना जाता है। चलिए जानते हैं इन सभी आसनों को चित्र सहित।

सूर्य नमस्कार के विभिन्न चरण एवं उनकी विधि

सूर्य नमस्कार के विभिन्न चरण एवं उनकी विधि
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 27

सूर्य नमस्कार चरण 1 प्रार्थना की मुद्रा

सूर्य नमस्कार के प्रथम चरण में प्रार्थना की मुद्रा में खड़ा होना है इसके लिए पंजों को मिलाकर सीधे खड़े हो जाइए पूरे शरीर को शिथिल छोड़ दीजिए। स्वाश सामान्य होनी चाहिए , एकाग्रता और मंत्र ओम मित्राय नमः का जाप करें

सूर्य नमस्कार के प्रथम चरण में प्रार्थना की मुद्रा में खड़ा होना है इसके लिए पंजों को मिलाकर सीधे खड़े हो जाइए पूरे शरीर को शिथिल छोड़ दीजिए। स्वाश सामान्य होनी चाहिए , एकाग्रता और मंत्र ओम मित्राय नमः का जाप करें
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 28

सूर्य नमस्कार स्थिति 2 हस्त उत्तानासन विधि

सूर्य नमस्कार स्थिति 2 हस्त उत्तानासन विधि
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 29

सूर्य नमस्कार स्थिति 3 पादहस्तासन

सूर्य नमस्कार स्थिति 3 पादहस्तासन
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 30

सूर्य नमस्कार स्थिति 4 अश्व संचालन

सूर्य नमस्कार स्थिति 4 अश्व संचालन
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 31

Online Teacher Transfer Apply 2022 : शिक्षकों के लिए ऑनलाइन ट्रांसफर प्रक्रिया एजुकेशन पोर्टल पर हुई शुरू ऐसे करें , ऑनलाइन ट्रांसफर आवेदन,ये शिक्षक नहीं कर सकेंगे अप्लाई(Opens in a new browser tab)

अगर आप को डिजिटल एजुकेशन पोर्टल द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे अधिक से अधिक शिक्षकों के साथ शेयर करने का कष्ट करें|

Follow us on google news - digital education portal
Follow Us On Google News – Digital Education Portal
Digital education portal

हमारे द्वारा प्रकाशित समस्त प्रकार के रोजगार एवं अन्य खबरें संबंधित विभाग की वेबसाइट से प्राप्त की जाती है। कृपया किसी प्रकार के रोजगार या खबर की सत्यता की जांच के लिए संबंधित विभाग की वेबसाइट विजिट करें | अपना मोबाइल नंबर या अन्य कोई व्यक्तिगत जानकारी किसी को भी शेयर न करे ! किसी भी रोजगार के लिए व्यक्तिगत जानकारी नहीं मांगी जाती हैं ! डिजिटल एजुकेशन पोर्टल किसी भी खबर या रोजगार के लिए जवाबदेह नहीं होगा

Team Digital Education Portal

सूर्य नमस्कार स्थिति 5 पर्वतासन

सूर्य नमस्कार स्थिति 5 पर्वतासन
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 32

सूर्य नमस्कार स्थिति 6 अष्टांग नमस्कार

सूर्य नमस्कार स्थिति 6 अष्टांग नमस्कार
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 33

सूर्य नमस्कार स्थिति 7 भुजंगासन

सूर्य नमस्कार स्थिति 7 भुजंगासन
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 34

सूर्य नमस्कार स्थिति 8 पर्वतासन

सूर्य नमस्कार स्थिति 8 पर्वतासन
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 35

सूर्य नमस्कार स्थिति 9 अश्व संचालनासन

सूर्य नमस्कार स्थिति 9 अश्व संचालनासन
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 36

सूर्य नमस्कार स्थिति 10 पादहस्तासन

सूर्य नमस्कार स्थिति 10 पादहस्तासन
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 37

सूर्य नमस्कार स्थिति 11 हस्त उत्तानासन

सूर्य नमस्कार स्थिति 11 हस्त उत्तानासन
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 38

सूर्य नमस्कार स्थिति 12 प्रार्थना की मुद्रा

सूर्य नमस्कार स्थिति 12 प्रार्थना की मुद्रा
सूर्य नमस्कार स्वामी विवेकानंद जयंती स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश सूर्य नमस्कार की संपूर्ण 12 स्थितियां 39

सामान्यतः पूछे जाने वाले प्रश्न

सूर्यनमस्कार क्यों किया जाए?

यह सवाल शायद हर उस व्यक्ति के मन में उठता है जो सूर्यनमस्कार का अभ्यास आरम्भ करने के इछुक है। सूर्यनमस्कार को करने के मुख्य दो कारण है। पहला कारण–सूर्य नमस्कार पूरे शरीर के लिए एक अच्छा व्यायाम है। इसको करने से मांसपेशियों में खींचाव, लचीलापन और लयबद्धता बनती है जो की वज़न घटाने में भी बहुत अधिक लाभदायक है। यह शारीरिक स्तर से परे कई स्वास्थ्य लाभ, मन को आराम और ध्यान करने के लिए एकाग्रता प्रदान करता है। दूसरा कारण- सूर्य नमस्कार हमें सूर्य के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का अवसर देता है जिसके बिना पृथ्वी पर जीवन असंभव है।

Join whatsapp for latest update

सूर्य नमस्कार करने के लिए सबसे अच्छा समय क्या है?

जल्दी सुबह सूर्योदय के समय, खाली पेट पर सूर्य नमस्कार करना एक अच्छा विचार है।

क्या शाम के समय सूर्यनमस्कार करना उचित है?

हाँ। आप सूर्योदय और सूर्यास्त के समय सूर्य नमस्कार का अभ्यास कर सकते हैं। जब चांद दिखाई देता है, आप उस समय चंद्र नमस्कार (Moon Salutation) कर सकते है।

Join telegram

सूर्य नमस्कार कैसे स्थान पर करना चाहिए?

अभ्यास करने की जगह के लिए कोई प्रतिबंध नहीं है। आप अपने घर पर हवादार कमरे में, अच्छी खूली जगह पर या प्रकृति के सानिध्य में इसका आनंद ले सकते है।

अपनी शारीरिक सीमा का सम्मान करें, अत्यधिक प्रयत्न न करें।

यदि आपने सूर्यनमस्कार करना प्रारम्भ किया है तो हो सकता है की आप आपने योग शिक्षक या साथी व्यवसायी की नकल करने  के लिए आकर्षित हो जाएँ। लेकिन याद रखें, प्रत्येक शरीर का एक विभिन्न लचीलापन और क्षमता होती है। किसी के साथ प्रतिस्पर्धा न करें। केवल उतना ही करें जितना आप कर सकते हैं।

प्रतिदिन सूर्यनमस्कार के कितने राउंड करने चाहिए?

दैनिक सूर्य नमस्कार के कम से कम 12 राउंड करना एक अच्छा विचार है (एक सेट दो राउंड से बने होते है -दाहिने पैर से छह राउंड और बांए पैर से छह राउंड)। हालांकि, आपने यदि सूर्यनमस्कार करना प्रारम्भ किया है तो आप दो से चार राउंड के साथ प्रारंभ करें और उसके बाद धीरे-धीरे आप आराम से जितना कर सकते हैं उतना करें (यदि आप कर सकें तो 108 तक कर सकते हैं। ) आदर्श रूप में, अभ्यास में सेट किया जाता है। इससे यह सुनिश्चित होगा कि शरीर के दोनों ओर समान रूप से उपयोग किए जाते हैं।

सूर्यनमस्कार के साथ अन्य व्यायाम अवश्य करें।

हालाँकि सूर्य नमस्कार एक पूरा शारीरिक व्यायाम है परंतु इसके साथ आप अन्य व्यायाम भी जोड़ सकते हैं। सूर्य नमस्कार के साथ अन्य योगासन और योग मुद्राएं जोड़ने के लिए श्री श्री योग शिक्षक से परामर्श करें।

सूर्य नमस्कार के लिए कौनसी गति का पालन करना चाहिए?

विभिन्न गति (धीमा, मध्यम या तीव्र) पर सूर्य नमस्कार के अभ्यास के प्रभाव अलग अलग हो सकते हैं। यदि सूर्यनमस्कार धीमी गति से किया जाए तो यह शरीर को मजबूत बनाने और मांसपेशियों को लयबद्ध करने में मदद करता है। धीमी गति से सूर्यनमस्कार करने से मन, शरीर, और सांस लयबद्ध हो जाती है और व्यक्ति एक पूर्ण ध्यान की स्थिति में आ जाता है।

तीव्र गति से सूर्य नमस्कार के कुछ राउंड हृदय का सबसे अच्छा व्यायाम है। अगर आप सूर्य नमस्कार एक वार्म अप व्यायाम के रूप में कर रहे हैं, तो तेज गति से करें। आप सूर्यनमस्कार धीमी, माध्यम, अथवा तीव्र गति से कर सकते हैं।  9

सूर्यनमस्कार किसी प्रशिक्षक की निगरानी में सींखें।

किसी भी अन्य योग आसन के अभ्यास की तरह, यह सूर्य नमस्कार भी एक प्रशिक्षित और अनुभवी योग शिक्षक के मार्गदर्शन में सीखना चाहिए।

यदि आपको पीठ की समस्या है तो डॉक्टर से परामर्श करें।

यदि आप लगातार पीठ दर्द, शरीर में किसी भी अन्य दर्द या कुछ पुरानी शारीरिक समस्या से पीड़ित हैं, तो यह अभ्यास शुरू करने से पहले एक डॉक्टर से परामर्श की सलाह ज़रूर ले।

अपने योग अभ्यास के लिए प्रतिबद्ध रहे और नियमित रूप से करें।

सबसे अच्छा परिणाम प्राप्त करने के लिए, सूर्य नमस्कार का अभ्यास नियमित रूप से सुनिश्चित करें। उसके बाद ही आप इसके लाभों का अनुभव करने में सक्षम होंगे। कृष्णवर्मा, वरिष्ठ श्री श्री योग शिक्षक के अनुसार “यह दैनिक 20 मिनट अभ्यास करने के लिए बेहतर है, कभी-कभी एक घंटे के लिए अभ्यास कर सकते है। “

अगर आप को डिजिटल एजुकेशन पोर्टल द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे अधिक से अधिक शिक्षकों के साथ शेयर करने का कष्ट करें|

Follow us on google news - digital education portal
Follow Us On Google News – Digital Education Portal
Digital education portal

हमारे द्वारा प्रकाशित समस्त प्रकार के रोजगार एवं अन्य खबरें संबंधित विभाग की वेबसाइट से प्राप्त की जाती है। कृपया किसी प्रकार के रोजगार या खबर की सत्यता की जांच के लिए संबंधित विभाग की वेबसाइट विजिट करें | अपना मोबाइल नंबर या अन्य कोई व्यक्तिगत जानकारी किसी को भी शेयर न करे ! किसी भी रोजगार के लिए व्यक्तिगत जानकारी नहीं मांगी जाती हैं ! डिजिटल एजुकेशन पोर्टल किसी भी खबर या रोजगार के लिए जवाबदेह नहीं होगा

Team Digital Education Portal

Show More

Leave a Reply

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please Close Adblocker to show content